बच्चों का टीकाकरण एवं टीकाकरण सूची – Child Vaccination

587
बच्चों का टीकाकरण एवं टीकाकरण सूची - Child Vaccination

टीकाकरण क्या है?

जन्म के समय नवजात शिशु में रोगों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता नहीं होती है इसलिए उनकी इम्युनिटी को मजबूत बनाने के लिए ही बचपन में बच्चों का टीकाकरण करवाया जाता है.

बच्चे के जन्म लेने के बाद उसे घातक व गंभीर बीमारियों से बचाने के लिए दी जाने वाली दवा को vaccination या टीकाकरण कहते हैं.

कभी-कभी यह दवा इंजेक्शन के द्वारा दी जाती है और कभी-कभी लिक्विड के रूप में शिशु के मुहं में डालकर दी जाती है.

टीकाकरण का महत्व क्या है?

हर बच्चे के लिए टीकाकरण बहुत महत्वपूर्ण है इसलिए सभी माता-पिता की सबसे बड़ी जिम्मेदारी है बच्चों का टीकाकरण करवाना ताकि वे भविष्य में होने वाली घातक बीमारियों से बचे रहें.

टीकाकरण से छोटे बच्चों के शरीर में antibodies बनते हैं जो बच्चे के शरीर को जिंदगी भर बीमारियों से लड़ने के लिए तैयार करते हैं.

बचपन में टीकाकरण करवाने से शिशु शुरुआत से ही गंभीर बीमारियों से सुरक्षित रहता है. यदि आपके बच्चे को बचपन में ही सभी ज़रूरी टीके लगे हुए हैं तो उसे किसी भी जानलेवा बीमारी होने का खतरा कम रहता है.

शिशु का टीकाकरण आप किसी भी सरकारी या प्राइवेट हॉस्पिटल में करवा सकते हैं. हर हॉस्पिटल में vaccination card या record book दी जाती है. कौन से माह में कौन सा टीका लगेगा इसकी पूरी जानकारी इसमें रहती है.

ये टीके सभी सरकारी हॉस्पिटल में निःशुल्क लगाए जाते हैं लेकिन यदि आप ये टीके प्राइवेट हॉस्पिटल में लगवाते हैं तो इसके लिए आपको अलग से भुगतान करना पड़ता है.

इसके साथ ही Vaccine लगवाने से पहले आप डॉक्टर से बात कर लें कि आपको पेनफुल वैक्सीन लगवानी है या पेनलेस.

Also Read: टीकाकरण के बाद बुखार क्यों आता है?

बीसीजी का टीका कब लगता है?

नवजात शिशु के लिए बीसीजी का टीका बहुत ही महत्वपूर्ण है. यह टीका मुख्यतः शिशु को टीबी और दिमागी बुखार से बचाने के लिए लगाया जाता है.

बीसीजी का टीका नवजात शिशु को जन्म के तुरंत बाद या फिर जन्म लेने के 15 दिन के अंदर-अंदर लगाया जाता है. बीसीजी वैक्सीन को इंजेक्शन के रूप में शिशु की बाजू पर लगाया जाता है.

टीकाकरण सूची: कौन-कौन से टीके किस-किस माह में लगवाएं?

टीकाकरण सूची - baby vaccination chart

जन्म के समय

शिशु के पैदा होते ही जन्म के 24 घंटे के अंदर या 15 दिन के अंदर-अंदर नीचे दिए गये ये तीन टीके लगवाने बहुत जरूरी होते हैं.

  • BCG (Bacillus Chalmette Guerin)- यह टीका बच्चे को टी.बी (tuberculosis) व दिमागी बुखार के संक्रमण से बचाने के लिए लगाया जाता है.
  •  Hepatitis B1-  यह टीका लिवर में होने वाले वायरस जैसे- पीलिया, बुखार आदि से बचाने में सहायक है.
  •  OPV (Oral Polio Vaccine) – यह टीका लकवा, पोलियो जैसी खतरनाक बीमारी से बचाता है. पोलियो की यह दवा शिशु को मुहं में डालकर दी जाती है.

डेढ़ माह यानि 6 हफ़्ते में

Pentavalent vaccine (पेंटावेलेंट वैक्सीन) – यह vaccine शिशु को तीन बार लगाईं जाती है.

यह वैक्सीन शिशु को पांच रोगों (डिप्थीरिया, काली खांसी, हिपेटाइटिस B, टिटनस, हिब) से बचाने के लिए लगाई जाती है. इसमें पांच तरह की दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है.

  1. Hepatitis B2 – यह टीका बच्चे को hepatitis नामक खतरनाक बीमारी से बचाने के लिए लगाया जाता है.
  2. HIB1 (Haemophilus influenzae B) – यह टीका हिब वायरस से बचाता है.
  3. Rota virus 1 – यह वैक्सीन बच्चे को उल्टी, बुखार, दस्त तथा पेट दर्द जैसी बीमारियों से बचाने के लिए दी जाती है. 
  4. PCV1 (Pneumococcal conjugate vaccine)- यह वैक्सीन शिशु को निमोनिया व कान के इन्फेक्शन से बचाती है.
  5. DPT 1 ( Diphtheria, Pertussis, Tetanus) – डिफ्थीरिया से छोटे बच्चे के गले व सांस नाली में संक्रमण हो जाता है. Pertussis यानि काली खांसी से बच्चे के फेफड़ों में इन्फेक्शन हो जाता है, और टिटनेस की वजह से घाव जल्दी नही भरते. अतः इन सभी बीमारियों से बचने के लिए बचपन में DPT का टीका लगाया जाता है.
  6. IPV 1 (Injectable polio vaccine)- पोलियो की यह दवा शिशु को इंजेक्शन के द्वारा दी जाती है.

ढाई माह यानि 10 हफ़्ते में

Pentavalent vaccine

  1. HIB 2
  2. Rota virus 2
  3. PCV2
  4. DPT 2
  5. IPV 2 (Injectable polio vaccine)

साढ़े तीन माह यानि 16 हफ़्तों में

Pentavalent vaccine

  1. HIB 3
  2. Rota virus 3
  3. PCV 3
  4. DPT 3
  5. IPV 3

6 माह में

  1. OPV 3 (Oral polio vaccine)
  2. Hepatitis B3

9 माह में  

  1. MMR 1 (Mumps, Measles, Rubella) – यह टीका इन तीन बीमारियों (गलसुआ, खसरा, जर्मन खसरा) से बचाने के लिए लगाया जाता है.
  2. OPV 4

10 से 12 माह में

  1. TCV (Typhoid conjugate vaccine) – यह टीका शिशु को टाइफाइड नामक बीमारी से बचाता है.
  2. Hepatitis A1

15  माह में

  1. MMR 2
  2. PCV Booster 1 – यह टीका निमोनिया से बचाने के लिए लगाया जाता है.

18 माह में

  1. IPV Booster 1 (injective polio vaccine)
  2. DPT Booster 1

1 साल में

  1. Hepatitis  A vaccine
  2. Chickenpox vaccine

2 साल में

  1. Typhoid Booster

5 साल में

  1. DPT Booster 2
  2. IPV Booster
  3. TCV
  4. MMR
  5. Chickenpox

10 साल में

  1. Tetanus
  2. HPV (Human Papilloma Virus) Vaccine- यह टीका सिर्फ Female Child को ही लगाया जाता है. यह टीका लड़कियों को भविष्य में होने वाले Cervical Cancer से बचाने में मदत करता है.