गर्भावस्था में पानी की कमी के नुकसान – Dehydration in Pregnancy

578
गर्भावस्था में पानी की कमी के नुकसान – Dehydration in Pregnancy

यह तो आप सभी जानते होंगे कि प्रेगनेंट महिला को डॉक्टर्स के द्वारा पर्याप्त मात्रा में पानी पीने की सलाह दी जाती है. लेकिन यदि आप माँ बनने जा रही हैं तो आपको गर्भावस्था में पानी की कमी के नुकसान के बारे में भी पता होना चाहिए.

पेट में पल रहे बच्चे को सारा पोषण माँ से ही मिलता है. ऐसे में यदि माँ के शरीर में डिहाइड्रेशन यानि की पानी की कमी हो जाए तो यह उसके गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए भी नुकसानदायक हो सकता है.

लेकिन कुछ महिलाएं प्रेगनेंसी में पानी पीने के महत्त्व को नज़रंदाज़ कर देती हैं जिसके परिणामस्वरूप डिलीवरी के वक़्त उन्हें कई सारी complications का सामना करना पड़ता है.

यूँ तो शरीर में पानी की कमी होना किसी के भी स्वास्थ्य के लिए सही बात नहीं है लेकिन अगर यह समस्या प्रेगनेंट महिला को हो जाये तो यह होने वाली माँ के साथ-साथ उसके होने वाले शिशु के लिए भी बहुत घातक हो सकता है.

प्रेगनेंसी के दौरान प्रेगनेंट महिला में डिहाइड्रेशन के लक्षण कैसे पहचानें?

  1. बार-बार प्यास लगना, गला सूखना, चक्कर आना, थकान या कमजोरी महसूस होना 
  2. सिर दर्द होना, सिर भारी होना या माइग्रेन की शिकायत
  3. गाढ़े पीले रंग का यूरीन आना
  4. मुहं सूखना, होंठ फटना
  5. अत्यधिक उल्टी होना
  6. कब्ज, बवासीर, यूरीन इन्फेक्शन
  7. ब्लड प्रेशर लो होना  

गर्भावस्था में पानी की कमी क्यों होती है?

  1. जिन महिलाओं को प्रेगनेंसी के शुरूआती महीनों में मॉर्निंग सिकनेस की समस्या बहुत अधिक होती है उनके शरीर में पानी की अत्यधिक कमी हो जाती है.
  2. यदि आप गर्मियों के मौसम में अधिक excercise करते हैं या फिर शारीरिक गतिविधि ज्यादा करते हैं तो इससे आपको पसीना ज्यादा आएगा और आपके शरीर में पानी की कमी होने की संभावना बढ़ जाती है.
  3. प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला के शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव आते हैं. इसके साथ ही खानपान की आदतों में भी बदलाव आता है और कभी-कभी तो कुछ भी खाने या पीने का मन नहीं करता है, जिस वजह से महिला के शरीर में पानी की कमी हो जाती है.
  4. जिन महिलाओं को शराब पीने की गंदी आदत होती है, उनके शरीर में भी शराब की वजह से पानी की कमी हो जाती है.
  5. प्रेगनेंसी के दौरान चाय या कॉफ़ी का सेवन अधिक मात्रा में करने से भी शरीर में पानी की कमी हो जाती है.

Also Read:

गर्भावस्था में पानी की कमी से होने वाले नुकसान

  1. यदि प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला कम पानी पीती है तो इससे महिला को कब्ज की समस्या हो सकती है. कम पानी पीने से आपका पेट भी साफ़ नहीं रहेगा, जिस कारण आपको कई दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है. ज्यादा देर तक कब्ज रहने से महिला को पाइल्स (बवासीर) की शिकायत भी हो सकती है.
  2. यदि प्रेगनेंसी के समय आप कम पानी पीती हैं तो इसकी संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है कि डिलीवरी हो जाने के कुछ दिन बाद भी आपको पाइल्स की समस्या हो सकती है.
  3. अधिकतर महिलाओं में होने वाली एक आम समस्या है यूरीन इन्फेक्शन. प्रेगनेंसी के समय महिला की लापरवाही की वजह से उनके शरीर में पानी की कमी हो जाती है और इस कारण यूरीन में भी कमी आती है जिस वजह से यूरीन इन्फेक्शन व ब्लैडर इन्फेक्शन का खतरा बना रहता है.
  4. पानी की कमी होने से महिला को मॉर्निंग सिकनेस, जी मचलाना, अत्यधिक उल्टी जैसी समस्याओं का लम्बे समय तक सामना करना पड़ सकता है.
  5. यदि प्रेगनेंसी में आप पानी कम पीती हैं तो आपके हाथ-पैरों में सूजन अधिक आ सकती है और इस वजह से आपके शरीर में दर्द भी हो सकता है.
  6. प्रेगनेंसी के समय पानी की कमी की वजह से गर्भ में बच्चे को भरपूर पोषण नहीं मिल पाता है, जिस वजह से उसका सम्पूर्ण विकास बाधित हो सकता है. पानी की कमी होने से पेट में बच्चे की किडनी भी प्रभावित हो सकती है.
  7. पानी की कमी के कारण प्रेगनेंट महिला के शरीर में एम्नियोटिक फ्लूइड का बनना कम हो जाता है, जिसकी वजह से गर्भ में शिशु हिल-डुल नहीं पाता. इसका पता सोनोग्राफी में चलता है कि गर्भवती महिला की बच्चेदानी में पानी की कमी है और इस स्थिति में महिला की डिलीवरी भी समय से पूर्व करवानी पड़ सकती है. ऐसे में नॉर्मल डिलीवरी ना होकर सिज़ेरियन डिलीवरी की संभावना अधिक हो जाती है.
  8. पानी की कमी होने से गर्भवती महिला का ब्लड प्रेशर काफी लो हो जाता है और लो ब्लड प्रेशर के कारण स्टिल बर्थ या फिर मिसकैरेज का खतरा बना रहता है अथवा बच्चे के जन्म में देरी भी हो सकती है.
  9. यदि आपके शरीर में पानी की मात्रा कम है तो गर्भनाल सही ढंग से काम नहीं कर पाती है या फिर ये सूखने लगती है.
  10. पानी की कमी से गर्भ में शिशु की त्वचा को पूरी नमी नहीं मिल पाती है और यह सिकुड़ने लगती है.
  11. प्रेगनेंसी के दौरान कम पानी पीने का खामियाजा महिला को डिलीवरी के बाद भी भुगतना पड़ सकता है. क्योंकि पानी की कमी की वजह से महिला के शरीर में दूध भी कम मात्रा में बनता है. अतः डिलीवरी के बाद शिशु को माँ का दूध पर्याप्त मात्रा में ना मिल पाने की वजह से नवजात शिशु के स्वास्थ्य पर भी असर पड़ता है.
  12. पानी की कमी से प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला का एनर्जी लेवल कम हो सकता है, जिससे महिला को थकान अधिक लगती है.   
  13. महिला के शरीर में पानी की कमी की वजह से पर्याप्त oxyzen सिर तक नहीं पहुँच पाती है अतः प्रेगनेंसी के दौरान महिला तेज सिर दर्द से पीड़ित रह सकती है.
  14. पानी की कमी से शरीर में खिंचाव होता है और लेबर पेन जल्दी शुरू हो जाते हैं जिस वजह से premature डिलीवरी की संभावना बढ़ जाती है.

गर्भावस्था में पानी की कमी दूर करने के उपाय

pregnancy me pani ki kami
  1. प्रेगनेंसी के दौरान हर प्रेगनेंट महिला को रोज़ाना दो से तीन लीटर पानी पीना आवश्यक है. हर घंटे में एक से दो गिलास पानी जरूर पीजिए.
  2. यह जरूर ध्यान में रखिए कि जब भी आपको पानी पीना हो तो हमेंशा बैठकर ही पानी पीना चाहिए.
  3. सबकी प्रेगनेंसी एक समान नहीं होती है. यदि आपकी प्रेगनेंसी में दिक्कतें हैं और आपको ज्यादा पानी पीने से भी दिक्कत होती है तो आप एक साथ बहुत सारा पानी मत पीजिए बल्कि थोड़ा-थोड़ा करके पानी पीने की आदत डालिए.
  4. यदि आप सादा पानी नहीं पी सकती हैं तो आप नींबू पानी, नारियल पानी, जलजीरा या  आम पन्ना ले सकती हैं.
  5. रात के समय अधिक पानी पीने से आपको बचना चाहिए.
  6. यदि आपके यहाँ साफ़ पानी नहीं आता है तो पानी को अच्छी तरह से उबालकर ही पियें.
  7. प्रेगनेंट महिला को इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि वो कभी भी फ्रिज़ का ठंडा पानी ना पियें. इससे उनके होने वाले बेबी को नुकसान पहुँच सकता है. हमेंशा सादा पानी ही पियें.
  8. प्रेगनेंसी के समय आपको मौसम के अनुसार ही पानी पीना चाहिए. लेकिन अक्सर देखा जाता है कि कुछ महिलाएं सर्दियों में ना के बराबर पानी पीती हैं, आप ऐसी गलती बिल्कुल ना करें. सर्दियों के मौसम में भी आपके शरीर को पानी की उतनी ही ज़रुरत होती है जितनी कि गर्मियों के मौसम में. इसलिए अपनी प्रेगनेंसी में शरीर की जरूरत के अनुसार आप गुनगुना पानी लें. यह आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा.
  9. यदि हो सके तो दिन में एक बार हल्दी वाला पानी जरूर पियें. ये आपको प्रेगनेंसी के दौरान किसी भी तरह के इन्फेक्शन से बचाएगा और आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाएगा.
  10. प्रेगनेंसी में ऐसे फलों व सब्जियों का सेवन करें जिनमें पानी की मात्रा अधिक हो जैसे- खीरा, टमाटर, तरबूज, पत्तागोभी, मूली, पालक, अंगूर, सेब, अनार आदि.
  11. रोजाना अपनी डाईट में सलाद, सूप, फल व दही का सेवन जरूर करें.
  12. गरम माहौल में ज्यादा देर तक ना रहें और गर्मी में अधिक excercise करने से बचें. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here