प्रेगनेंसी में कौन सी सब्जी नहीं खानी चाहिए? – Vegetables Avoid in Pregnancy

301
प्रेगनेंसी में कौन सी सब्जी नहीं खानी चाहिए? – Vegetables Avoid in Pregnancy

प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिलाएं अपने खानपान को लेकर अक्सर दुविधा में रहती हैं कि प्रेगनेंसी में क्या खाएं और क्या नहीं. यहां तक कि सब्जी को लेकर भी कुछ महिलाएं असमंजस में पड़ जाती हैं. इसलिए उनकी समस्या के समाधान हेतु आज के इस आर्टिकल में हम बताएंगे कि प्रेगनेंसी में कौन सी सब्जी नहीं खानी चाहिए?

ये भी ज़रूर पढ़ें:

जानिए प्रेगनेंसी में कौन सी सब्जी नहीं खानी चाहिए? – Pregnancy me konsi sabji nahi khani chahiye?

बैंगन (Brinjal)

प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिलाओं को बैंगन खाने से हमेंशा मना किया जाता है क्योंकि, बैंगन की तासीर गर्म होती है इसलिए इसे खाने से आपके शरीर में गर्मी पैदा हो सकती है.

बैंगन में एसिडिक गुण पाए जाते हैं. यह शरीर में एसिडिक रिएक्शन पैदा करता है जिससे आपकी प्रेगनेंसी को ख़तरा होने की संभावना रहती है.

बैंगन के अधिक सेवन से आपको खुजली की समस्या भी हो सकती है.

ऐसा कहा जाता है कि बैंगन में पहले से ही ऐसे तत्व मौजूद रहते हैं जो पीरियड्स को लाने में सहायक होते हैं. इसलिए यदि प्रेगनेंसी के शुरूआती महीनों में आप बैंगन का सेवन करते हैं तो इससे गर्भपात होने की संभावना बढ़ जाती है.

करेला (Bitter Gourd)

वैसे तो करेले की सब्जी गर्भ में शिशु के विकास में मदद करती है लेकिन फिर भी प्रेगनेंसी में इसका सेवन सीमित मात्रा में ही किया जाना चाहिए. करेले में मौजूद बीज गर्भवती महिला के लिए हानिकारक हो सकते हैं.

करेले के बीज में vaccine नाम का कैमिकल तत्व पाया जाता है जिसे खाने से प्रेगनेंट महिला को अपच, जी मचलाना, बुखार आना आदि समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं.

यदि आप करेले के सारे बीज निकालकर इसका सेवन करें तो इससे आपको कोई नुक्सान नहीं होगा और आपको इसके फायदे भी मिलेंगे.

कच्चा पपीता (Raw Papaya)

कुछ लोग कच्चे पपीते को फ़ल की तरह खाते हैं तो कुछ लोग इसकी सब्जी बनाकर खाना बहुत पसंद करते हैं लेकिन प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला को कच्चा पपीता खाने से बचना चाहिए. कच्चा पपीता तासीर में बहुत गर्म होता है.

कच्चे पपीते में पैपीन और लेटेक्स नामक हानिकारक तत्व पाए जाते हैं जो कि गर्भपात या प्रीमेच्योर डिलीवरी के लिए ज़िम्मेदार होते हैं. इसलिए प्रेगनेंसी के दौरान कच्चा पपीता या इसकी सब्जी बनाकर बिल्कुल भी न खाएं.

पत्तागोभी (Cabbage)

पत्तागोभी को उगाने में कई सारे कीटनाशक दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है. यदि आप पत्तागोभी की सब्जी बनाते हैं तो बहुत अधिक संभावना रहती है कि पकने के बाद भी उसमें कीटनाशक मौजूद रहें.

जिससे गर्भवती महिला को नुक्सान पहुंच सकता है. पत्तागोभी में बैक्टीरिया और कवक होने की भी आशंका रहती है इसलिए गर्भवती महिलाओं को पत्तागोभी खाने से मना किया जाता है.

कटहल (Jackfruit)

आप प्रेगनेंसी के दौरान कटहल का सेवन कर सकते हैं लेकिन बहुत ही सीमित मात्रा में इसका सेवन करें. इसकी तासीर गर्म होती है और गर्म चीज़ें संकुचन को बढ़ा सकती हैं. इसलिए इसका अधिक मात्रा में सेवन करना आपकी प्रेगनेंसी के लिए हानिकारक भी हो सकता है.

कटहल में फाइबर अधिक मात्रा में होता है इसलिए इसे अधिक खाने से आपके पेट में कब्ज हो सकती है. साथ ही इसमें बहुत अधिक शुगर होने की वजह से भी यह उन गर्भवती महिलाओं के लिए नुक्सानदायक है जिन्हें शुगर की समस्या है क्योंकि इससे आपकी शुगर बढ़ सकती है.

बेमौसमी सब्जियां

प्रेगनेंसी के दौरान अक्सर गर्भवती महिला को अलग-अलग सब्जी खाने का मन करता है. आजकल शहरों में बिन मौसम भी सारी सब्जियां आसानी से उपलब्ध हो जाती हैं. लेकिन बिन मौसम की सब्जियों को कैमिकल के द्वारा उगाया जाता है.

ऐसे में इन बेमौसमी सब्जियों को खाना प्रेगनेंट महिला व उसके होने वाले शिशु के लिए नुक्सानदायक हो सकता है. इसलिए बेमौसमी सब्जियों का सेवन करने से आपको बचना चाहिए.

अदरक (Ginger)

प्रेगनेंसी में अदरक का सेवन फायदा और नुक्सान दोनों पहुंचा सकता है. अदरक की तासीर भी गर्म होती है इसलिए गर्मियों में तो अदरक का सेवन कम से कम करें. सब्जी में भी अदरक का इस्तेमाल अधिक मात्रा में न करें. खासकर प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में इसके सेवन से आपको बचना चाहिए.

कुछ ज़रूरी सावधानियां

प्रेगनेंसी के दौरान अपनी और गर्भ में पल रहे शिशु की सुरक्षा के लिए आपको नीचे दी गई सावधानियों का पालन ज़रूर करना चाहिए:

  1. कच्ची, अंकुरित, बासी और बिना धुली हुई सब्जियों को खाने से बचें.
  2. प्रेगनेंसी के समय आपको इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि आप कोई भी सब्जी बनाने से पहले उसे अच्छी तरह से साफ़ पानी से धोकर साफ़ कर लें ताकि उनमें लगी धूल, मिट्टी और कैमिकल साफ़ निकल जाएं.
  3. प्रेगनेंसी के दौरान हमेंशा ताज़ी सब्जियों का ही सेवन करें.
  4. जिन सब्जियों में अंकुर निकल गये हों उन्हें भी खाने से परहेज करें. जैसे- आलू, शलगम आदि. क्योंकि जिस जगह से अंकुर निकलते हैं उस जगह से बैक्टीरिया घुसने की भी संभावना रहती है. इसलिए प्रेगनेंसी के दौरान अंकुरित भोजन नहीं करना चाहिए.

प्रेगनेंसी में खान-पान से जुड़े कुछ सवालों के जवाब:

  1. प्रेगनेंसी में करेला खाना चाहिए या नहीं?

    प्रेगनेंसी में करेले का सेवन सीमित मात्रा में ही किया जाना चाहिए. करेले में मौजूद बीज गर्भवती महिला के लिए हानिकारक हो सकते हैं. इसलिए इसकी सब्जी बनाने से पहले इसके सारे बीज निकाल दें.

  2. प्रेगनेंसी में कटहल खाना चाहिए या नहीं?

    प्रेगनेंसी के दौरान कटहल का सेवन बहुत ही सीमित मात्रा में करना चाहिए. कटहल की तासीर गर्म होती है अतः इसके सेवन से गर्भाशय में संकुचन पैदा हो सकता है.
    कटहल में फाइबर और शुगर अधिक मात्रा में मौजूद होती है. अतः प्रेगनेंसी के दौरान इसके अधिक सेवन से आपको कब्ज और शुगर की समस्या भी हो सकती है.

  3. प्रेगनेंसी में पपीता खाना चाहिए या नहीं?

    प्रेगनेंसी में पका हुआ पपीता खाना फायदेमंद है लेकिन कच्चा या अधपका पपीता खाने से आपको बचना चाहिए. प्रेगनेंसी में कच्चे पपीते की सब्जी बनाकर भी न खाएं. यह आपकी प्रेगनेंसी के लिए हानिकारक हो सकता है.
    कच्चे पपीते में लेटेक्स नामक पदार्थ की अधिकता होती है जिसके सेवन से गर्भाशय में संकुचन होने की संभावना रहती है और गर्भपात भी हो सकता है. अतः प्रेगनेंसी के दौरान इसका सेवन न करें.
    इस संबंध में और अधिक जानकारी के लिए हमारा यह आर्टिकल भी ज़रूर पढ़ें: प्रेगनेंसी में पपीता खाना चाहिए या नहीं?