प्रेगनेंसी में कौन सा फ्रूट नहीं खाना चाहिए? – 8 Fruits Avoid in Pregnancy

386
प्रेगनेंसी में कौन सा फ्रूट नहीं खाना चाहिए? – Fruits Avoid in Pregnancy

प्रेगनेंसी के दौरान आपके खानपान का सीधा असर आपके होने वाले शिशु पर पड़ता है. इसलिए यदि आप चाहती हैं कि आप एक स्वस्थ शिशु को जन्म दें तो आपको यह पता होना चाहिए कि प्रेगनेंसी में आपको क्या खाना चाहिए और क्या नहीं. आज के इस आर्टिकल में हम आपको यह जानकारी देने जा रहे हैं कि आपको प्रेगनेंसी में कौन सा फ्रूट नहीं खाना चाहिए?.

प्रेगनेंसी में कौन सा फ्रूट नहीं खाना चाहिए? – Pregnancy Me Konsa Fruit Nahi Khana Chahiye?

यूं तो प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिलाओं को फ़लों एवं सब्जियों का खूब सेवन करना चाहिए क्योंकि इनमें मौजूद विटामिन और पोषक तत्व महिला के होने वाले शिशु के विकास के लिए अति आवश्यक होते हैं.

लेकिन कुछ ऐसे विशेष फल भी हैं जिनसे प्रेगनेंसी में दूरी बनाना ही बेहतर है. आइए अब जानते हैं कि कौन से हैं वे फल जो आपको प्रेगनेंसी में नहीं खाने चाहिए:

कच्चा या अधपका पपीता (Raw Papaya)

वैसे तो पका हुआ पपीता आपके शरीर के लिए बहुत ही लाभदायक फल है और यदि आप पके हुए पपीते का सेवन प्रेगनेंसी के आखिरी महीनों में करते हैं तो इसके सभी पोषक तत्व आपके गर्भस्थ शिशु को भी मिलेंगे लेकिन प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में इसका सेवन न करें.

पूरी प्रेगनेंसी के दौरान कच्चे पपीता के सेवन से आपको बचना चाहिए. कच्चे पपीते में लेटेक्स नामक तत्व की प्रचुरता पाई जाती है जो कि गर्भाशय में संकुचन पैदा करता है और गर्भपात का कारण भी बन सकता है. यह भ्रूण के विकास को अवरुद्ध करता है. इसलिए अपनी प्रेगनेंसी में कच्चे और अधपके पपीते का सेवन बिल्कुल भी न करें.

अनानास (Pineapple)

प्रेगनेंसी के दौरान अनानास के सेवन से गर्भाशय में तीव्र संकुचन पैदा हो सकता है. अनानास में ब्रोमेलेन नामक हानिकारक तत्व मौजूद होता है जिसके सेवन से प्रीमेच्योर डिलीवरी अर्थात् समय से पूर्व प्रसव होने का ख़तरा रहता है. अतः प्रेगनेंसी में अनानास के सेवन से आपको बचना चाहिए.                                                                                                                                      

तरबूज (Watermelon)

तरबूज हमारे शरीर में पानी की कमी को दूर करता है क्योंकि इसमें पर्याप्त मात्रा में पानी मौजूद होता है. लेकिन प्रेगनेंसी के दौरान तरबूज का अधिक मात्रा में सेवन करने से इसमें मौजूद शुगर आपके ब्लड में शुगर लेवल को बढ़ा सकती है.

इसलिए जो गर्भवती महिलाएं पहले से ही शुगर पेशेंट हैं उनके लिए तरबूज का सेवन करना नुक्सानदायक साबित हो सकता है. तरबूज की तासीर ठंडी होती है इसलिए प्रेगनेंसी में इसका अत्यधिक सेवन न करें.

केला (Banana)

यद्यपि प्रेगनेंसी में केले का सेवन करना सुरक्षित माना जाता है लेकिन कुछ मामलों में इसे लेकर बहुत सावधानी बरतने की आवश्यकता है. जैसे: यदि प्रेगनेंसी के दौरान आप शुगर और एलर्जी से भी पीड़ित हैं तो आपको केला नहीं खाना चाहिए.

केले में बहुत अधिक मात्रा में शुगर पाई जाती है जिसके सेवन से आपके शुगर लेवल में बढ़ोत्तरी हो सकती है और प्रेगनेंसी में शुगर का अत्यधिक बढ़ जाना आपके लिए चिंता का विषय हो सकता है.

खजूर (Dates)

खजूर में विटामिन और पोषक तत्व भरपूर पाए जाते हैं. लेकिन खजूर की तासीर बहुत ही गर्म होती है इसलिए प्रेगनेंट महिलाओं को इसका सेवन करने से मना किया जता है.

प्रतिदिन एक या दो खजूर खाना तो ठीक है लेकिन इसका अत्यधिक सेवन करना आपके गर्भाशय में संकुचन का कारण भी बन सकता है.

इमली (Tamarind)

प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिलाओं का खट्टा और चटपटा खाने का बहुत मन करता है. ऐसे में अधिकतर महिलाओं की पहली पसंद होती है इमली.

मॉर्निंग सिकनेस और उल्टी जैसी समस्याओं से राहत पाने के लिए इमली खाना एक पारंपरिक उपचार है लेकिन, इमली खाते समय आपको संयम बरतने की बहुत आवश्यकता है.

इमली में विटामिन सी भरपूर मात्रा में मौजूद होता है और इसके अत्यधिक सेवन से कभी-कभी आपके शरीर में प्रोजेस्ट्रोन का उत्पादन कम होने लगता है.

जिस कारण गर्भपात, समय पूर्व प्रसव और भ्रूण में कोशिका क्षय भी हो सकता है. इसलिए खासकर प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में इमली का बहुत अधिक सेवन बिल्कुल न करें.

फ्रोजन बेरीज़ (Frozen Berries)

प्रेगनेंसी के समय गर्भवती महिलाओं को फ्रीज़ में रखी हुई कोई भी चीज़ या फ्रोज़न खाद्य पदार्थ खाने से बचना चाहिए. फ्रोज़न बेरीज़ को पहले लंबे समय तक सुखाया जाता है और फिर फ्रीज़ में स्टोर किया जाता है. ऐसा करने से बेरीज़ का मूल स्वाद और इसके सभी पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं.

यदि आप प्रेगनेंसी में ऐसी फ्रोज़न बेरीज़ का सेवन करती हैं तो यह आपके व आपके गर्भस्थ शिशु के लिए विषाक्त हो सकता है. इसलिए फ्रोज़न बेरीज़ या डिब्बाबंद बेरीज़ के सेवन से आपको दूर ही रहना चाहिए.

अंगूर (Grapes)

अंगूर में मौजूद रेसवेराट्रोल नामक विषाक्त तत्व गर्भवती महिला और उसके शिशु के लिए हानिकारक होता है. इन्हें पचाना भी गर्भवती महिला के लिए मुश्किल हो सकता है.

अंगूर की तासीर भी गर्म होती है इसलिए, प्रेगनेंसी के आखिरी महीनों में डॉक्टर भी अंगूर न खाने की सलाह देते हैं. क्योंकि प्रेगनेंसी के अंतिम समय में अंगूर के अधिक सेवन से असमय प्रसव पीड़ा होने की संभावना रहती है.

ये भी ज़रूर पढ़ें:

फ़ल खाते समय ज़रूरी सावधानियां

प्रेगनेंसी में फ़लों का सेवन करना बहुत आवश्यक है लेकिन फ़लों का सेवन करने से पहले कुछ सावधानियां ज़रूर बरतें.

  1. फल खाने से पहले इन्हें अच्छी तरह से धोकर साफ़ कर लें ताकि इनमें प्रयुक्त किये गए कैमिकल्स और पेस्टीसाइडस निकल जाएं.
  2. हमेंशा ऑर्गेनिक फलों का ही सेवन करें. कैमिकल द्वारा पकाए गए फलों का सेवन करने से बचें.
  3. बेमौसमी फलों का सेवन न करें क्योंकि बाज़ार में मिलने वाले बेमौसमी फलों को कैमिकल द्वारा पकाया जाता है.
  4. हमेंशा ताज़े और उसी वक़्त काटे हुए फल ही खाएं. बासी या कुछ समय पहले से कटे हुए फल न खाएं.
  5. यदि फल का कोई हिस्सा बाहर से सड़ा हुआ दिखाई दे तो उस फल को न खाएं और ना ही उसके सड़े हुए हिस्से को अलग करने के बाद वो फल खाएं. क्योंकि उस पूरे फल में बैक्टीरिया पहुंच चुके होते हैं इसलिए बेहतर होगा कि आप ऐसे फल को बिल्कुल भी न खाएं.

सही समय पर और संतुलित मात्रा में फलों का सेवन करने से आपको भी फ़ायदा होगा और आपके होने वाले शिशु का विकास भी अच्छी तरह से होगा. इस आर्टिकल को अपने उन परिचितों के साथ भी ज़रूर शेयर करें जो फ़िलहाल प्रेगनेंसी के सुखमय दौर से गुज़र रही हैं.

प्रेगनेंसी में फ्रूट खाने से सम्बंधित सवाल-जवाब

  1. प्रेगनेंसी में पपीता खाना चाहिए या नहीं?

    प्रेगनेंसी में पका हुआ पपीता खाना फायदेमंद है लेकिन पूरी प्रेगनेंसी के दौरान कच्चे पपीता के सेवन से आपको बचना चाहिए. कच्चे पपीते में लेटेक्स नामक तत्व की प्रचुरता पाई जाती है जो कि गर्भाशय में संकुचन पैदा करता है और गर्भपात का कारण भी बन सकता है. इसलिए प्रेगनेंसी में कच्चे और अधपके पपीते का सेवन बिल्कुल भी न करें.

  2. प्रेगनेंसी में अंगूर खाना चाहिए या नहीं?

    अंगूर की तासीर गर्म होती है इसलिए, प्रेगनेंसी के आखिरी महीनों में अंगूर का सेवन न करें. प्रेगनेंसी के अंतिम समय में अंगूर के अधिक सेवन से असमय प्रसव पीड़ा होने की संभावना रहती है.

  3. क्या प्रेगनेंसी में तरबूज खाना चाहिए?

    जो गर्भवती महिलाएं पहले से ही शुगर पेशेंट हैं उनके लिए तरबूज का सेवन करना बहुत नुक्सानदायक साबित हो सकता है. प्रेगनेंसी के दौरान तरबूज का अधिक मात्रा में सेवन करने से इसमें मौजूद शुगर आपके ब्लड में शुगर लेवल को बढ़ा सकती है.