प्रेगनेंसी में नॉनवेज खाना चाहिए कि नहीं?

1432
प्रेगनेंसी में नॉनवेज खाना चाहिए कि नहीं? - Is Non Veg Safe During Pregnancy

अक्सर गर्भवती महिलाओं का ये सवाल रहता है कि प्रेगनेंसी में नॉनवेज खाना चाहिए कि नहीं?. दोस्तों, गर्भावस्था एक ऐसा समय है जब गर्भवती महिला को अपने खान-पान पर विशेष रूप से ध्यान देने की जरूरत होती है | इस समय गर्भवती महिला का आहार बहुत महत्त्व रखता है क्यूँकि इसका सीधा असर माँ व शिशु दोनों की सेहत पर पड़ता है.

इसलिये भोजन का चुनाव करने से पहले गर्भवती महिला को उसकी जानकारी होना भी अति आवश्यक है कि उसके लिये क्या खाना फायदेमंद है और क्या खाना नुक्सानदायक है. हम आज आपको इसके फायदे और नुक्सान के साथ-साथ कुछ सावधानियां भी बताएँगे.

अक्सर नॉनवेज को लेकर महिलाओं में ये दुविधा रहती है कि प्रेगनेंसी के समय नॉनवेज खाना उनके व उनके शिशु के लिये सेफ रहेगा या नहीं, तो आज इस लेख में हम जानेंगे कि, गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला को नॉनवेज यानि कि मांसाहार का सेवन करना चाहिये अथवा नहीं.

प्रेगनेंसी में नॉनवेज खाने के फ़ायदे – Benefits of Eating Non-Veg During Pregnancy

गर्भावस्था के समय गर्भवती महिला को अनेक पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है जिससे वह एक स्वस्थ शिशु को जन्म दे सके और इसके लिये वह अपने भोजन में दाल, सब्जी, फल, दूध, सलाद, साबूत अनाज आदि को शामिल करती है लेकिन इनके अतिरिक्त मांसाहारी भोजन में भी कई ऐसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो माँ व शिशु दोनों के लिये फायदेमंद साबित होते हैं.

अतः यदि गर्भवती महिला को नॉनवेज से कोई दिक्कत या किसी भी प्रकार की कोई एलर्जी नहीं है तो वह अपनी डाइट में मांसाहार को शामिल कर सकती है.

गर्भावस्था के समय मांसाहार में मुख्यतः अंडे, मछली, चिकन और मटन का सेवन किया जा सकता है.

  • अंडा अंडे में भरपूर प्रोटीन होता है और यह कॉलेस्ट्रोल को भी नियंत्रित रखता है. इसमें कैलोरी की मात्रा अधिक होती है जो कि प्रेगनेंसी के दौरान महिला के शरीर में ऊर्जा बनाये रखती है जिससे गर्भवती महिला को थकान, कमजोरी या ऊर्जा की कमी महसूस नहीं होती है. सुबह के नाश्ते में आप उबला अंडा या फिर इसका ऑमलेट बनाकर खा सकती हैं.
  • मछली – यदि आप मांसाहारी हैं तो गर्भावस्था के समय आपके लिये मछली का सेवन करना सबसे बेहतर है. मछली में प्रोटीन, आयरन, ओमेगा 3 फैटी एसिड व ओमेगा 6  पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है जो कि गर्भ में पल रहे शिशु के मस्तिष्क के विकास के लिये बहुत ही लाभकारी माना जाता है. मछली के सेवन से माँ तथा होने वाले शिशु दोनों की इम्यूनिटी बढ़ती है. गर्भवती महिला को मीठे पानी या तालाब में पाये जाने वाली जैसे- साल्मन, ट्राउट, रोहू मछली को ही अपने भोजन में शामिल करना चाहिये.
  • मटन मटन गर्भवती महिला के नर्वस सिस्टम व इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में सहायक है, इससे महिला में खून की कमी दूर होती है और यह गर्भवती महिला के लिये विटामिन, जिंक व आयरन का बहुत अच्छा स्रोत है.
  • चिकन – चिकन में आयरन, कैल्शियम, विटामिन, फास्फोरस जैसे पोषक तत्व पाये जाते हैं | इसमें मौजूद विटामिन C गर्भवती महिला के इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाये रखता है और साथ ही महिला के उच्च रक्तचाप को भी नियंत्रित रखता है | चिकन के सेवन से गर्भवती महिला व गर्भ में पल रहे भ्रूण को भरपूर मात्रा में प्रोटीन मिलता है | चिकन में सेलेनियम होता है जो गर्भवती महिला को थायराइड से बचाता है.

प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला को आयरन की बहुत ज़रूरत होती है | आयरन की  कमी से महिला एनीमिया की शिकार हो सकती है अतः इस कमी को पूरा करने के लिये गर्भवती महिलाएं चिकन का सेवन कर सकती हैं | इससे जन्म के समय शिशु का वजन भी ठीक रहता है. 

गर्भावस्था के समय गर्भवती महिला के शरीर में फौलिक ऐसिड की कमी के कारण गर्भ में पल रहे शिशु को न्यूरल ट्यूब डिफैक्ट (तंत्रिका नली दोष) का खतरा हो सकता है, जो भ्रूण के मष्तिष्क या रीढ़ की हड्डी को प्रभावित करता है और इसके कारण शिशु शारीरिक या मानसिक रूप से विकलांग हो सकता है | अतः इससे बचने के लिये गर्भवती महिला चिकन का सेवन कर सकती है क्यूँकि चिकन में फौलिक ऐसिड पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है.

Must Read: प्रेगनेंसी में फिश खाने के बड़े फायदे हैं.

प्रेगनेंसी में नॉनवेज खाने के फ़ायदे - Benefits of Eating Non-Veg During Pregnancy

मांसाहार खाने के नुक्सान व इससे जुड़ी सावधानियां –

वैसे तो गर्भवती महिला के लिये मांसाहार का सेवन करना फायदेमंद होता है लेकिन यदि इसका सेवन सही तरीके से ना किया जाये तो यह फायदे की जगह नुक्सान भी कर सकता है.    

  • गर्भवती महिला को कच्चे अंडे का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिये | इसमें साल्मोनेला नामक बैक्टीरिया होता है जिसकी वजह से इसे पचाना आसान नहीं होता और यह उल्टी, दस्त या फ़ूड पॉयज़निंग का कारण बन सकता है | कभी भी टूटे हुये या क्रेक अंडे ना खरीदें | इनमें मिट्टी या बैक्टीरिया घुसने की संभावना होती है जिसके सेवन से गर्भवती महिला व उसके शिशु को नुक्सान पहुँच सकता है. 
  • मछली का सेवन करने से पहले गर्भवती महिला को थोड़ी सावधानी रखने की जरूरत होती है | इस समय समुद्र में पाये जाने वाली मछली के सेवन से बचना चाहिये, समुद्री मछलियों में मरकरी अत्यधिक मात्रा में पाया जाता है जो कि गर्भवती महिला व उसके शिशु के लिये हानिकारक होता है | इसके अलावा मछली को खाने से पहले इसे अच्छी तरह से पकाकर ही खाना चाहिये | पकाने से समुद्री भोजन में मौजूद कई संक्रमित और विषाक्त पदार्थ नष्ट हो जाते हैं.
  • मटन में कॉलेस्ट्रोल बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है, इसलिये शुगर व ह्रदय रोग से ग्रसित गर्भवती महिला को मटन खाने से परहेज करना चाहिये | यह खाने में बहुत भारी होता है अतः इसे पचाने में महिला को कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है.
  • यदि कच्चे मांस को अच्छी तरह से धोया या पकाया ना जाये तो इसमें लिस्टेरिया, टोक्सोप्लाज्मोसिस, साल्मोनेला जैसे बैक्टीरिया रह जाते हैं, यह भ्रूण या नवजात शिशु के लिये बहुत हानिकारक हैं | कच्चे या अधपके मांस के सेवन से गर्भवती महिला को गर्भपात या संक्रमण होने का डर रहता है | इसके कारण महिला को उल्टी, दस्त, बुखार, पेट दर्द या सर दर्द की समस्या भी हो सकती है | अतः किसी भी तरह का नॉनवेज खाने से पहले इसे अच्छी तरह से धोना व पकाना बहुत जरूरी है.
  • नॉनवेज को पकाने के बाद इसे कभी भी खुला ना छोड़ें, खुला छोड़ देने से यह संक्रमित हो सकता है अतः इसे हमेंशा ढककर ही रखें.
  • प्रेगनेंसी में नॉनवेज का सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिये | महीने में दो से तीन  बार ही इसका सेवन करें ताकि इसे पचाने में भी आसानी हो | जरूरत से ज्यादा नॉनवेज खाने से गर्भवती महिला में डाईबिटिज़, मोटापा और हृदय संबंधी बीमारियाँ होने का खतरा रहता है.
  • गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला को ज्यादा तीखा व मसालेदार मांसाहार का सेवन नहीं करना चाहिये, क्यूँकि इससे महिला को गैस, ऐसिडिटी व सीने में जलन की शिकायत हो सकती है.
  • बाहर होटल या ढाबे में बना हुआ या पैक्ड नॉनवेज बिल्कुल भी ना खाएं, जब भी आपका मन नॉनवेज खाने को करे तो इसे घर पर ही बनाकर खाएं.

शरीर में पोषक तत्वों की आपूर्ति के लिये प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिलाएं अपनी जरूरत के अनुसार नॉनवेज ले सकती हैं लेकिन कुछ भी खाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें | प्रेगनेंसी में नॉनवेज खाने से पहले यदि आप इन सभी बातों का ध्यान रखती हैं तो यह आपके लिये नुक्सानदायक नहीं होगा | आशा करते हैं कि गर्भवती महिलाओं के लिये यह लेख फायदेमंद साबित होगा.