प्रेगनेंसी में फ़िश खाने के फायदे – Pregnancy Me Fish Khane Ke Fayde

668
प्रेगनेंसी में फ़िश खाने के फायदे - Benefits of eating fish during pregnancy

दोस्तों, आज मैं आपको बताने जा रही हूँ प्रेगनेंसी में फ़िश खाने के फायदे यानी Benefits Of Eating Fish During Pregnancy के बारे में | प्रेगनेंसी में फिश खाना गर्भवती महिला और उसके होने वाले शिशु दोनों के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है .

अक्सर आपके मन में ये सवाल आता होगा कि kya pregnancy me fish khani chahiye या फिर प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला को कौन सी फिश खानी चाहिए और कौन सी फिश खाने से बचना चाहिए, इन सभी जानकारी के लिए हमारा ये आर्टिकल ध्यान से जरूर पढ़िए.

1.   फिश में आयरन, प्रोटीन, ओमेगा 3 और कई अन्य पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो गर्भवती महिला के गर्भ में पल रहे शिशु के विकास के लिए अत्यंत लाभदायक हैं.

2. फिश में मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड शिशु के दिमाग के विकास के लिए फायदेमंद होता है और इससे शिशु के जन्म के बाद उसका digestive system यानि कि पाचन तंत्र सही रहता है और साथ ही साथ शिशु का immune system भी मजबूत रहता है.

3. फिश खाने से, होने वाले शिशु को साँस से जुड़ी समस्याएं जैसे- अस्थमा आदि होने का खतरा कम हो जाता है.

4. एक रिसर्च के अनुसार, प्रेगनेंसी के दौरान फिश खाने वाली महिलाओं के बच्चों में autism यानि की अविकसित मस्तिष्क का खतरा भी कम रहता है और शिशु के दिमाग का विकास बहुत तेजी से होता है.

5.  फिश के साथ-साथ इसका तेल भी बहुत फायदेमंद होता है | fish oil में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है | इसके सेवन से गठिया, हृदय रोग और कैंसर जैसी घातक बीमारियों से बचा जा सकता है.

प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला के शरीर में कई सारे hormonal changes होते रहते हैं, जिसके कारण गर्भवती महिला को मूड़ स्विंग्स की समस्या से गुजरना पड़ता है | फिश के तेल में इन्हीं अवसादों को नियंत्रित करने वाले पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो गर्भवती महिला को तनाव मुक्त और खुशमिज़ाज़ रखते हैं |  यदि फिश के तेल से महिला और उसके नवजात शिशु की रोजाना मालिश की जाये तो इससे उनकी हड्डियां मजबूत होती हैं.

6. यदि गर्भवती महिला के गर्भ में शिशु का विकास सही से नही हो रहा है, उसका वजन सही से नहीं बढ़ रहा है या उसका विकास कुछ हफ्ते पीछे चल रहा है तो आपके डॉक्टर भी आपको फिश खाने की सलाह दे सकते हैं क्यूँकि इसमें मौजूद प्रोटीन गर्भ में पल रहे शिशु का विकास बहुत ही अच्छी तरह से करता है और साथ ही माँ को भी मजबूती देता है.

7 . जो महिलाएं अपनी प्रेगनेंसी में fish का सेवन करती हैं उन्हें premeture डिलीवरी का खतरा नही होता है.

फिश खाने से पहले गर्भवती महिला को कुछ सावधानियों को भी ध्यान में रखना चाहिए –

list of safe fish during pregnancy

गर्भवती महिला को केवल तालाब और मीठे पानी में पाई जाने वाली जैसे- सालमोन, ट्राउट, ट्यूना, झींगा, रोहू आदि मछली का ही सेवन करना चाहिए.

इस बात का ख़ास ध्यान रखें कि गर्भवती महिला समुद्र में पायी जाने वाली कुछ मछलियों का सेवन करने से बचें क्यूँकि इनमें मिथाइल Mercury अत्यधिक मात्रा में पाया जाता है, जिसके सेवन से गर्भ में पल रहे शिशु के दिमाग और नर्वस सिस्टम को नुक्सान पहुंच सकता है और किडनी डैमेज होने का खतरा भी बना रहता है.

साथ ही इस बात का भी ध्यान रखिए कि गर्भवती महिला को कच्ची या अधपकी फिश खाने से बचना चाहिए, क्यूँकि इसे खाने से आपको संक्रमण हो सकता है जो कि प्रेगनेंसी के दौरान आपको व आपके होने वाले शिशु को प्रभावित कर सकता है.

जब भी आपको fish खरीदनी हो तो ऐसी जगह से ही खरीदें जहाँ पर स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाता हो और साथ ही वो दुकान भी भरोसेमंद होनी चाहिए.

 fish को खाने से पहले उसे अच्छी तरह से धोकर और अच्छी तरह से पकाकर ही खाएं.

आयुर्वेद के अनुसार fish की तासीर काफ़ी गरम होती है इसलिए इसे कभी भी दूध या दही के साथ नहीं खाना चाहिए क्यूंकि इन्हें साथ में खा लेने से गैस, एलर्जी और त्वचा सम्बंधित बीमारियाँ हो सकती हैं और साथ ही ये गर्भवती महिला व उसके शिशु को नुक्सान भी पहुँचा सकती है, इसलिए इनका सेवन साथ में कभी ना करें.

तो ये थे प्रेगनेंसी में फ़िश खाने के फायदे. आप हमारा Pregnancy Me Fish Khane Ke Fayde वाला YouTube विडियो भी जरुर देखें.

इसी तरह के useful वीडियो के लिए हमारे Mom Kids Education YouTube चैनल को अभी subscribe करें.