प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए? – Pregnancy me Kaise Sona Chahiye?

478
प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए? – Pregnancy me Kaise Sona Chahiye?

आज इस ब्लॉग में हम आपको यह जानकारी देंगे कि प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए? प्रेगनेंसी किसी भी महिला के जीवन का सबसे ख़ूबसूरत सफ़र होता है.

अपने अंदर एक और ज़िंदगी को पोषित करने की जो ख़ुशी, होने वाली मां के मन में होती है उसे शब्दों में बयां कर पाना इतना आसान नहीं है. लेकिन प्रेगनेंसी का यह सफ़र भी सभी महिलाओं के लिए आसान नहीं होता.

गर्भावस्था के दौरान प्रेगनेंट महिला को अपने खानपान और सेहत से लेकर चलने-फ़िरने, उठने-बैठने तक का विशेष ध्यान रखना होता है. इसी तरह प्रेगनेंट महिला को अपने सोने का भी ध्यान रखना बेहद ज़रूरी है.

प्रेगनेंसी के आखिरी महीनों में गलत तरीके से सोना आपके लिए परेशानी खड़ी कर सकता है और आपके होने वाले बच्चे के विकास में भी बाधा उत्पन्न कर सकता है.

प्रेगनेंसी के शुरूआती महीनों में गर्भवती महिला को नींद बहुत अच्छी आती है लेकिन, जैसे-जैसे डिलीवरी की डेट नज़दीक आती है महिला को नींद न आने की समस्या उत्पन्न होने लगती है.

नींद न आने की समस्या कई कारणों से उत्पन्न हो सकती है. जैसे- टांगों में दर्द होना, आपका वजन बढ़ जाना, कब्ज होना, बार-बार यूरीन पास करना या सही पोजिशन में न लेटना आदि.

प्रेगनेंसी में सोने का सही तरीका क्या है? – Pregnancy Me Sone Ka Sahi Tarika

प्रेगनेंसी में बायीं करवट लेकर सोएं

प्रेगनेंसी में सोने का सही तरीका - Pregnancy Me Sone Ka Sahi Tarika

प्रेगनेंसी के दौरान सोने के लिए सबसे बेस्ट पोजिशन होती है बायीं तरफ़ सोना या बायीं करवट लेकर सोना. इस दौरान डॉक्टर भी आपको बायीं करवट लेकर ही सोने की सलाह देते हैं.

आपका लिवर और एब्डोमन शरीर की दायीं तरफ स्थित होता है. आपके बेबी की नॉर्मल ग्रोथ के लिए यह ज़रूरी है कि आपका लिवर सही और नॉर्मल तरीके से काम करे.

दायीं करवट सोने से लिवर पर ज्यादा प्रेशर पड़ता है, आपके बढ़े हुए गर्भाशय का भार भी आपके लिवर पर पड़ता है. इसलिए इस प्रेशर से बचने के लिए आपको बायीं तरफ़ या बायीं करवट लेकर ही सोना चाहिए.

जिस वक़्त गर्भवती महिला सो रही होती है उस वक़्त भ्रूण तक रक्त व ऑक्सीजन का प्रवाह तेज गति से हो रहा होता है. बायीं तरफ़ सोने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इस पोजीशन में गर्भ में आपके शिशु और आपके प्लेसेंटा को ज्यादा से ज्यादा पोषक तत्व और खून की आपूर्ति होती है.

एक ही पोजिशन में लगातार बहुत देर तक न ही लेटें और न ही सोएं. आप बीच-बीच में करवट बदलकर सो सकते हैं लेकिन सिर्फ थोड़ी देर के लिए. कोशिश करें कि ज्यादातर आप बायीं करवट लेकर ही सोएं. गर्भावस्था के आखिरी महीनों में, सोते समय अपने घुटनों को मोड़कर और दोनों घुटनों के बीच तकिया रखकर सोएं.

ये भी पढ़ें:

प्रेगनेंसी में दायीं करवट लेकर न सोएं

अक्सर ज्यादातर गर्भवती महिलाओं को कमर के बल अर्थात् दायीं करवट लेकर सोने की आदत होती है जबकि प्रेगनेंसी के दौरान इस अवस्था में सोना आपके लिए हानिकारक हो सकता है.

बहुत से अध्ययनों में यह बात सामने आई है कि प्रेगनेंसी के दौरान महिला को कमर या पीठ के बल न सोकर, साइड की करवट लेकर ही सोना चाहिए. पीठ के बल सोने से आपको पीठ दर्द और सांस लेने में दिक्कत हो सकती है.  

प्रेगनेंसी में पेट के बल न सोएं

कुछ महिलाओं को पेट के बल सोना पसंद होता है. लेकिन प्रेगनेंसी के दौरान इस तरह सोने का यह तरीका बिल्कुल गलत है.

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में तो आप पेट के बल सो सकती हैं लेकिन प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही में अक्सर गर्भवती महिलाओं को सीने में जलन, कब्ज व एसिडिटी की समस्या होने लगती है इसके साथ ही पेट के बल सोने से आपकी पाचन क्रिया धीमी हो सकती है.

प्रेगनेंसी के महीने आगे बढ़ने के साथ-साथ आपका गर्भाशय और पेट भी आगे बढ़ने लगता है और भारीपन महसूस होने लगता है. प्रेगनेंसी की तीसरी तिमाही में बेबी बंप इतना अधिक बढ़ जाता है कि आपको पेट के बल सोने में दिक्कत होने लगती है.

ऐसे में यदि आप पेट के बल सोती हैं तो आपकी रीढ़ की हड्डी में खिंचाव आ सकता है और आपको पीठ दर्द की समस्या से भी गुज़रना पड़ सकता है.

पेट के बल सोने से आपकी ब्रेस्ट पर भी दबाव पड़ता है जिससे आपको ब्रेस्ट में भी दर्द हो सकता है. अतः जब आपको पेट के बल सोने में दिक्कत होने लगे तब आपको इस पोजिशन में सोना बंद कर देना चाहिए.

प्रेगनेंसी में सोने से सम्बंधित सवाल-जवाब

  1. प्रेगनेंसी में कौन सी करवट लेकर सोना चाहिए?

    प्रेगनेंसी के दौरान बायीं करवट लेकर सोना सबसे सही पोजिशन मानी जाती है.

  2. गर्भवती महिला को कितने घंटे सोना चाहिए?

    गर्भवती महिला को गर्भावस्था के दौरान रात के समय कम से कम 8 घंटे की नींद अवश्य पूरी करनी चाहिए. इसके अलावा आप दिन में भी दो घंटे सो सकती हैं.

  3. प्रेगनेंसी में सीधे सोने से क्या होता है?

    प्रेगनेंसी में सीधे सोने से आपको पीठ दर्द और सांस लेने में दिक्कत हो सकती है.

  4. प्रेगनेंसी में ज्यादा नींद क्यों आती है?

    प्रेगनेंसी में थकान अधिक होने के कारण नींद अधिक आती है.