डिप्रेशन के लक्षण और कारण – Top 22 Signs of Depression

490
डिप्रेशन के लक्षण और कारण - Top 20 Signs of Depression

WHO (विश्व स्वास्थ्य संगठन) के अनुसार दुनिया भर में लगभग 350 मिलियन लोग अवसाद से प्रभावित होते हैं और सबसे ज्यादा 15 से 35 साल तक की उम्र के लोग डिप्रेशन से ग्रसित होकर आत्महत्या करने का प्रयास करते हैं.

आज भारत में भी डिप्रेशन के मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है. बदलते लाइफस्टाइल में डिप्रेशन अब आम बीमारी हो गयी है. खासकर ऐसे लोग डिप्रेशन की हालत में ज्यादा पहुँचते हैं, जो अपने परिवार से लंबे समय से दूर रह रहे हो.

डिप्रेशन के लक्षण

डिप्रेशन एक बहुत ही भयावह स्थिति होती है, जिसमें व्यक्ति हर रोज़ अंदर ही अंदर टूट रहा होता है, उसे हर वक्त अपने अंदर अकेलापन, एक ख़ालीपन सा महसूस होता है.

कई बार तो व्यक्ति अकारण ही रोने लगता है. वह बाहर से जितना शांत दिखाई देता है उसके अंदर उतना ही बड़ा तूफ़ान चल रहा होता है.

अक्सर ऐसा होता है कि, रोगी को पता ही नहीं होता कि वह डिप्रेशन में है. ऐसे में जरूरी है कि रोगी के करीबी दोस्त या निकट संबंधी उसमें डिप्रेशन के लक्षण को पहचानकर तुरंत उसकी मदत के लिए आगे आएं.

नीचे आपको कुछ डिप्रेशन के लक्षण से अवगत कराया गया है जिन्हें पहचानकर आप डिप्रेशन में जा रहे किसी व्यक्ति की मदत कर सकते हैं. 

  1. दैनिक जीवन की किसी भी गतिविधि में भाग ना लेना
  2. किसी भी काम में मन ना लगना
  3. जीवन के प्रति नकारात्मक नज़रिया रखना, हर वक़्त नकारात्मक विचारों से घिरे रहना  
  4. नींद ज्यादा आना या बहुत कम आना
  5. बहुत ज्यादा खाना या बहुत कम खाना
  6. हर वक़्त खुद को कोसते रहना या अपराधबोध होना
  7. भीड़-भाड़ से दूर रहना या फ़िर भीड़ में भी खुद को तन्हा महसूस करना, किसी से भी मिलने से बचना
  8. दोस्त, फैमिली व समाज से कट जाना या दूर-दूर रहना
  9. ज्यादा चिंता करना, बात-बात पर गुस्सा करना, चिढ़कर या झल्लाकर जवाब देना
  10. ख़ुशी के मौके पर भी दुखी रहना, हमेंशा उदास रहना
  11. हर वक्त थकान और बेचैनी महसूस करना
  12. अचानक से वजन में वृद्धि होना
  13. किसी भी काम में ध्यान केन्द्रित करने में परेशानी होना
  14. जीवन के प्रति उत्साह में कमी आना
  15. अधिक तनाव की वजह से सिर या मांस पेशियों में हर वक्त दर्द रहना
  16. किसी भी कार्य में खराब प्रदर्शन
  17. मन में बार-बार आत्महत्या का विचार आना
  18. हमेंशा उलझन में रहना और स्वयं को हारा हुआ व टूटा हुआ सा महसूस करना
  19. अत्यधिक शराब व नशे का सेवन करना 
  20. कुछ भी सोचने व निर्णय लेने में सक्षम ना होना
  21. आत्मविश्वास में कमी आना
  22. खुद को बेबस महसूस करना

Also Read: डिप्रेशन से बाहर कैसे निकलें – पक्का इलाज

डिप्रेशन के कारण

डिप्रेशन के कारण क्या है - Cause Of depression

डिप्रेशन से बचने के लिए सबसे पहले डिप्रेशन के कारण का पता लगाना बहुत जरूरी होता है. इस बीमारी व इसके इलाज को लेकर कुछ लोगों के मन में तमाम तरह के कन्फ्यूज़न हैं, जिन्हें दूर करना आवश्यक है.

कुछ लोग ये सोचते हैं कि डिप्रेशन सिर्फ अमीरों को ही होता है या सिर्फ गरीबों को ही होता है, ये सिर्फ सफल व्यक्ति को होता है या फिर असफल व्यक्ति को ही होता है. यदि आप भी ऐसा ही सोचते हैं तो आप यहाँ बिल्कुल गलत हैं.

डिप्रेशन कभी भी, कहीं भी और किसी को भी हो सकता है. इसका ना तो उम्र से कोई लेना-देना है और ना ही अमीरी या गरीबी से. आजकल तो कम उम्र के बच्चे भी डिप्रेशन का शिकार होने लगे हैं और मौजूदा समय में तो यहाँ तक देखा गया है कि जिनके पास दौलत, शोहरत, इज्ज़त, कामयाबी, सब कुछ है वो लोग भी डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं.

इसका अर्थ ये है कि, अपार धन दौलत, शोहरत और कामयाबी भी आपकी वास्तविक ख़ुशी की गारंटी नहीं देती. अतः इस पर मनन करना बहुत ज़रूरी है कि, सब कुछ होने के बावजूद भी आख़िर ऐसा क्या है, जो इंसान को खुश नहीं रख पाता और वह जीने की आशा ही छोड़ देता है.

 डिप्रेशन के मुख्यतः कारण हैं-

  1. बायोलोजिकल कारण (जैविक कारण)
  2. साइकोलोजिकल कारण (मनोवैज्ञानिक कारण)
  3. जेनेटिक कारण (अनुवांशिक कारण)  
  4. सोशल कारण (सामाजिक कारण)

डिप्रेशन के कारण क्या हैं?

  1. किसी प्रियजन की मृत्यु होना व लम्बे समय तक उनकी मौत से दुखी रहना
  2. परीक्षा में असफलता, रिजल्ट खराब आना या फेल हो जाना
  3. हार्मोन्स में बदलाव
  4. किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित होना या मौत का डर
  5. किसी काम में या किसी प्रतियोगिता में उम्मीद के मुताबिक सफलता ना मिलना
  6. जीवन में सफल होने के बावजूद भी मन में आत्मसंतुष्टि का अभाव होना
  7. नौकरी छूट जाना, बिज़नेस में भारी नुकसान होना
  8. कर्ज में डूब जाना या कोई आर्थिक संकट
  9. बेहद करीबी इंसान का साथ छूट जाना, तलाक, प्यार में धोखा खाना या ब्रेक-अप होना
  10. वैवाहिक संबंध में तनाव या विच्छेद या फिर आपसी मतभेद
  11. परिवार के सदस्यों के बीच Communication Gap होना
  12. कोई अपूर्ण इच्छा
  13. विपरीत परिस्थितियों से घबरा जाना व उनका सामना ना कर पाना
  14. कोई असामयिक हादसा घटित हो जाना
  15. अपनी ख़ुशी के लिए किसी और पर निर्भर रहना
  16. किसी दूसरे को खुद से ज्यादा महत्व या तवज्जो देना
  17. भावनात्मक रूप से कमज़ोर होना
  18. दिल में असंतोष होना, अपनी ज़िंदगी से असंतुष्ट रहना  
  19. किसी सच्चे साथी की कमी होना
  20. सहनशीलता व धैर्य का अभाव

डिप्रेशन के दुष्प्रभाव

अवसाद एक मानसिक विकार है जिसका यदि समय रहते इलाज ना किया जाये तो यह बहुत ही खतरनाक रूप ले सकता है. यह आपके जीवन के हर क्षेत्र को प्रभावित कर सकता है और आपके जीवन को एक घने अंधकार में ले जा सकता है.

यह केवल एक दिमागी फित्तूर नहीं है बल्कि एक ऐसी मानसिक स्थिति है जिसमें व्यक्ति की पॉजिटिव सोचने की क्षमता ही ख़त्म हो जाती है. डिप्रेशन से पीड़ित व्यक्ति अपने मन के अंदर अपने आप से संघर्ष कर रहा होता है, अपने आप से ही लड़ रहा होता है.

यहाँ आपको डिप्रेशन से होने वाले कुछ दुष्प्रभाव के बारे में जानकारी दी गयी है –

  1. इसके कारण आप मोटापे के शिकार हो सकते हैं, जिससे ह्रदय रोग व शुगर जैसी बीमारी हो सकती है.
  2. शारीरिक बीमारी जैसे- सर दर्द, बदन दर्द तथा मानसिक बीमारी
  3. शराब व नशे की बुरी लत लग सकती है
  4. चिंता व भय
  5. सामजिक अलगाव
  6. पारिवारिक संघर्ष
  7. मन में हीन भावनाओं का जन्म लेना
  8. आत्महत्या जैसा कदम उठा लेना