पेट की चर्बी कम करने के लिए योगासन – 6 Yoga Asanas To Reduce Belly Fat

35
पेट की चर्बी कम करने के लिए योगासन

आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे कि पेट की चर्बी कम करने के लिए योगासन कौन-कौन से करें और कैसे करें.

कई लोगों के मन में यह प्रश्न उठता है कि क्या योग से बेली फैट कम किया जा सकता है? तो इसका जवाब हां है.

बढ़े हुए पेट को कम करने के उपायों में से एक बहुत ही लाभदायक उपाय है योग, आसन और प्राणायाम करना यानि इन सबकी सहायता से आप अपने पेट की चर्बी घटा सकते हैं और बढ़े हुए पेट को अंदर कर सकते हैं.

तो चलिए जानते हैं पेट कम करने के लिए कौन-कौन से योगासन किए जा सकते हैं.

पेट कम करने के लिए योग

अनुलोम-विलोम प्राणायाम

अनुलोम-विलोम प्राणायाम को नाड़ी शोधन प्राणायाम भी कहा जाता है. पेट की चर्बी कम करने में अनुलोम-विलोम प्राणायाम बहुत लाभदायक साबित होता है. यह आसन करने में भी आसान होता है और यह मोटापा कम करने में भी सहायक है.

अनुलोम-विलोम प्राणायाम

कैसे करें

  • सबसे पहले ज़मीन पर बैठ जाएं और अपनी आंखें बंद कर लें.
  • अब दाएं हाथ के अंगूठे से दाएं नाक के छेद को बंद कर लें और बाईं नाक से सांस लें.
  • अब दाएं हाथ की सबसे छोटी उंगली व उसके साथ वाली उंगली से बाएं तरफ की नाक को बंद करके दाई ओर से धीरे-धीरे सांस को छोड़ें.
  • इसी स्थिति में रहते हुए सांस को अंदर खींचे और फिर दाई ओर से नाक को बंद करके बाईं और से सांस छोड़ें.
  • यही प्रक्रिया आप अपनी क्षमतानुसार 4 से 5 बार दोहरा सकते हैं.
  • इस प्राणायाम को कभी भी तेज़ गति से या ज़ोर से न करें.

कपालभाती

पेट कम करने के लिए यदि आप नियमित रूप से कपालभाती योगासन करते हैं तो इसके परिणाम आपको बहुत ही जल्दी देखने को मिलेंगे.

इसे रेगुलर करने से कब्ज, गैस और एसिडिटी जैसी समस्याएं भी कम होती हैं. कपालभाती आपकी कमर और पेट के आसपास की चर्बी को कम करने में मददगार आसन है. अतः सुबह उठकर इस योगासन को ज़रूर करें.

कपालभाति प्राणायाम कैसे करें

कैसे करें

  • ज़मीन पर ध्यान की मुद्रा में बैठें और आंखें बंद कर लें.
  • अब एक लंबी गहरी सांस लीजिए.
  • अब धीरे-धीरे नाक के ज़रिए सांस बाहर छोडें. यह ध्यान रखें कि सांस छोड़ते वक़्त आपका पेट अंदर की ओर होना चाहिए.
  • यह प्रक्रिया करते हुए आपको सांस को अंदर नहीं लेना है सिर्फ सांस को बाहर छोड़ना है.
  • यह प्रक्रिया बार-बार दोहराते रहें और इस आसन को सुबह-शाम खाली पेट ही करें.
  • गर्भवती महिलाओं को यह आसन नहीं करना चाहिए.

सेतुबंध योगासन

यह आसन करने से पेट व कमर के पास की चर्बी कम करने में मदद मिलती है. यह योगासन पेट और जांघों की मांसपेशियों को भी मजबूत करता है साथ ही गर्दन में होने वाले किसी भी तरह के दर्द या खिंचाव को कम करने में सहायक होता है.

सेतुबंध योगासन

कैसे करें

  • सबसे पहले ज़मीन पर पीठ के बल लेट जाएं. अब दोनों घुटनों को मोड़कर एड़ियों को कूल्हों के साथ सटा लीजिए.
  • दोनों हाथो से दोनों एड़ियों को पकड़ लें.
  • अब सांस लेते हुए कमर को ऊपर उठाएं और हाथ व पैरों को उसी स्थिति में रहने दें.
  • 20 से 30 सेकेंड तक इसी अवस्था में रहें और सामान्य गति से सांस लेते रहें.
  • अब धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए सामान्य अवस्था में आ जाएं.

नौकासन  

पेट और कमर की चर्बी कम करने हेतु यह आसन फायदेमंद साबित होता है. यह आसन करने से आपके पेट, कमर और जांघों पर दबाव पड़ता है जिससे आपका फैट कम होता है.

पाचन तंत्र और आंतों को सही रखने के लिए भी यह आसन बहुत फायदेमंद है. अतः इस इसे अपनी दैनिक दिनचर्या में ज़रूर अपनाएं.

नौकासन

कैसे करें

  • सबसे पहले ज़मीन पर पीठ के बल लेट जाएं. एड़ियों और पंजों को आपस में मिला लें.
  • दोनों हाथों को कमर से सटाकर रखें और हथेलियों को ज़मीन की ओर रखें.
  • गहरी लंबी सांस लें और फिर सांस छोड़ते हुए दोनों पैर, हाथों व गर्दन को एक सीध में समांतर ले जाते हुए ऊपर की ओर उठाएं. ऐसा करते हुए आपके शरीर का पूरा भार आपके कूल्हों पर आना चाहिए.
  • करीब 30 सेकंड तक इसी स्थिति में रहें. यह स्थिति नौका की तरह हो जाती है.
  • अब धीरे-धीरे सांस लेते हुए वापस अपनी सामान्य अवस्था में आ जाएं.

भुजंगासन

यदि आप पेट पर जमी चर्बी को घटाना चाहते हैं तो आपको भुजंगासन का अभ्यास करना चाहिए. भुजंगासन पेट की चर्बी और कमर के आसपास के मोटापे को कम करने में मददगार होता है. कंधे एवं बाजुओं के लिए भी यह आसन अच्छा माना जाता है.

भुजंगासन

कैसे करें

  • सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं और दोनों हाथों को छाती की सीध में ले जाएं व हथेलियों को ज़मीन पर रख लें.
  • अब धीरे-धीरे सांस भरते हुए छाती की ओर से ऊपर उठें, आपको केवल नाभि तक ही उठना है.
  • अब सांस छोड़ते हुए पहले वाली अवस्था में आ जाएं.

उत्तानपादासन

यह आसन आपके निचले पेट के साथ-साथ कूल्हों व जांघों पर जमा चर्बी से छुटकारा दिलाने में मदद करता है. थायराइड, कब्ज, डायबिटीज़ और स्ट्रेस को कम करता है और मांसपेशियों को भी मजबूत बनाता है.

Uttanpadasana

कैसे करें

  • सबसे पहले पीठ के बल ज़मीन पर लेट जाएं और दोनों हाथों को अपने शरीर के दोनों तरफ़ बिल्कुल सीधा रख लें.
  • अब धीरे-धीरे सांस लें और घुटनों को मोड़कर दोनों पैरों को धीर-धीरे एक से दो फीट तक ऊपर की ओर उठाएं.
  • 20 सेकंड तक इसी मुद्रा में रहें.
  • अब सांस छोड़ते हुए धीरे-धीरे पैरों को आगे लाते हुए नीचे ज़मीन पर रखें और शुरुआत वाली स्थिति में वापस आ जाएं.

अभी तक ऊपर हमने आपको पेट की चर्बी कम करने के लिए योगासन बताए. इन आसनों के अतिरिक्त बालासन, उष्ट्रासन, मंडूकासन, पवनमुक्तासन, समकोकाणासन आदि भी आपका वजन घटाने और पेट की चर्बी कम करने में लाभदायक साबित हो सकते हैं.

इसलिए पेट कम करने के लिए दवाओं का सहारा न लेकर आपको योग, प्राणायाम और आसन का दैनिक रूप से अभ्यास करते रहना चाहिए.