सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में दर्द – 10 Ways to Manage Pain After C-Section

248
सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में दर्द

सिजेरियन डिलीवरी में महिलाओं को कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ता है. उनमें से ही एक समस्या है टांके वाली जगह का ध्यान कैसे रखा जाए. आज की इस पोस्ट में हम यही जानकारी दे रहे हैं कि सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में दर्द हो तो उसका किस तरह ख्याल रखें.

सिजेरियन कोई मामूली ऑपरेशन नहीं होता है इस कारण कई महिलाओं के मन में सिजेरियन करवाने को लेकर डर रहता है. सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद महिला के शरीर को रिकवर होने में अधिक समय लगता है. यदि डिलीवरी के बाद टांकों की देखभाल ठीक तरह से न की जाए तो रिकवरी होने में देरी हो सकती है या फिर इंफेक्शन का ख़तरा रहता है.

ये भी पढ़ें:

विषय - सूची

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में दर्द होने पर कैसे ध्यान रखें?

सिजेरियन के बाद टांकें आना तो लाजमी है. इसमें आपको परेशान होने या फिर घबराने की ज़रुरत नहीं है. बस थोड़ी सावधानी बरतने की ज़रुरत है.

सिजेरियन डिलीवरी में महिला के पेट के निचले हिस्से में टांकें आने के बाद नीचे दी गई बातों का विशेष ध्यान रखने की ज़रुरत होती है.

साफ़-सफाई का ध्यान रखें

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांकों की ड्रेसिंग करते हुए साफ़-सफाई का विशेष ध्यान रखें. टांके के आस-पास के हिस्से को भी साफ़ सुथरा रखना बहुत ज़रूरी है. टांकों की ड्रेसिंग करने से पहले और ड्रेसिंग करने के बाद भी अच्छी तरह से हाथ धोएं.

टांकों पर पानी न लगने दें

सिजेरियन होने के कम से कम तीन हफ़्तों तक डॉक्टर आपको टांकों पर पानी डालने या पानी से धोने के लिए मना करते हैं. जहां पर स्टिचेस लगे होते हैं उस एरिया को साफ करने के लिए आप बीटाडीन सॉल्यूशन का प्रयोग कर सकते हैं.  

टांकों पर लगे हुए टेप को ख़ुद न निकालें

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके आने पर उनमें डॉक्टर टेप लगा दिया करते हैं. इस टेप को जबरदस्ती खुद निकालने की कोशिश न करें. यह टेप हफ़्ते या 10 दिन के बाद खुद ही निकलकर नीचे गिर जाता है. 10 दिन बाद भी यदि यह टेप न निकले तो आप इस बारे में डॉक्टर से बात कर सकती हैं.

स्तनपान कराते समय सावधानी रखें

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके आने पर खासकर आपको शिशु को स्तनपान कराते वक़्त बहुत सावधानी रखने की ज़रुरत होती है क्योंकि, अक्सर महिलाओं को सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में दर्द की शिकायत रहती है.

यह किसी भी मां के लिए बहुत ही मुश्किल स्थिति होती है जब उसे अपने नवजात शिशु को दूध भी पिलाना होता है और अपने टांकों का ध्यान भी रखना होता है. शिशु को दूध पिलाते वक़्त आप तकिए का इस्तेमाल कर सकती हैं, जिससे टांकों पर दबाव कम पड़ेगा और आपको दूध पिलाने में मुश्किल भी नहीं होगी.

बर्फ़ की सिकाई करें

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में दर्द से राहत पाने के लिए डॉक्टर कुछ पेन किलर देते हैं लेकिन यदि फिर भी आपके टांकों पर तेज दर्द होता है तो राहत पाने के लिए आप उसपे बर्फ़ की सिकाई कर सकते हैं लेकिन ध्यान रखें कि बर्फ़ को सीधे टांकों के ऊपर न रखें बल्कि, कॉटन के कपड़े में बर्फ़ को लपेटकर टांके वाले स्थान के चारों ओर हल्के हाथों से घुमाएं. बर्फ की सिकाई करने से आपको दर्द के साथ-साथ सूजन से भी राहत मिलेगी.

सुविधाजनक पोजिशन में सोएं

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में दर्द से राहत पाने के लिए आपको अपने सोने की पोजीशन पर भी ध्यान देना चाहिए. ऑपरेशन के दौरान कट या चीरा सामान्यतः पेट के बीच के हिस्से, निचले हिस्से या फिर किनारे की तरफ़ लगाया जाता है. ऐसे में यदि आप करवट लेकर या पेट के बल सोती हैं तो इससे आपके टांकों पर दबाव पड़ेगा, जिससे इनके घाव खुलने की संभावना अधिक रहती है.

इस स्थिति से बचने के लिए आपको कुछ हफ़्तों तक पीठ के बल ही सोना चाहिए. सिजेरियन के बाद पीठ के बल सोना ज्यादा सुविधाजनक और आरामदायक हो सकता है. इससे आपको कमर दर्द की भी शिकायत नहीं रहेगी.

खानपान का विशेष ध्यान रखें

सिजेरियन के बाद अपने खानपान का भी बहुत ध्यान रखें ताकि रिकवरी जल्द से जल्द हो सके. जिन महिलाओं की सिजेरियन डिलीवरी होती है उन्हें अपने खानपान को लेकर ज्यादा एतिहात बरतने की ज़रुरत होती है.

ऑपेरशन के बाद आपको कम से कम दो महीने तक कोई भी ऐसी चीज़ नहीं खानी चाहिए जिससे आपके टांके खुलने या पकने का डर हो. इस दौरान आप कोशिश करें कि अपना भोजन लिक्विड फॉर्म में ही लें, जैसे- मूंग दाल की पतली सी खिचड़ी, नमकीन दलिया, दाल में भीगी हुई रोटी आदि. इस तरह के भोजन में पोषक तत्व भरपूर होते हैं और ये पचने में भी आसान होता है.

ज्यादा तेज नमक, मिर्च मसालेदार, तला-भूना, अधिक घी का इस्तेमाल या फिर जंकफूड आपको बिल्कुल भी नहीं खाना चाहिए क्योंकि ऐसा भोजन आपके घाव को जल्दी भरने नहीं देता है और इससे टांके पकने का भी डर रहता है.

सिजेरियन के बाद तुरंत कपड़े बदल लें

सिजेरियन होने के तुरंत बाद आपको अपने कपड़े बदल लेने चाहिए. अपनी व अपने शिशु की ज़रुरत का सारा सामान अपने आस-पास ही रखें ताकि आपको बार-बार उठना-बैठना ना पड़े. कोई भी भारी या वज़नदार चीज़ ना उठाएं वरना, टांके खुलने का ख़तरा रहता है.

सिजेरियन के बाद ढीले-ढाले कपड़े पहनें

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में दर्द से बचने के लिए आपको ढीले-ढाले कपड़े पहनने चाहिए. टाइट कपड़े पहनने से आप comfortable feel  नहीं करेंगी और आपके टांकों पर भी जोर पड़ेगा.

कॉस्मेटिक्स का इस्तेमाल न करें

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में दर्द की शिकायत न हो इसके लिए महिला को टांके वाली जगह पर किसी भी तरह के कॉस्मेटिक्स का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए.

कॉस्मेटिक्स में कई तरह के केमिकल्स का प्रयोग किया जाता है जिनके इस्तेमाल से टांके वाली जगह पर खुजली या इन्फेक्शन हो सकता है. इसलिए जब तक आपके टांके पूरी तरह से भर नहीं जाते तब तक वहां पर कॉस्मेटिक्स का इस्तेमाल बिल्कुल न करें.

यदि सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांकों की देखभाल सही तरीके से की जाए तो आप सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में दर्द होने की समस्या से बच सकती हैं और बहुत ही जल्द सामान्य जीवन जी सकती हैं.

आशा करते हैं कि सिजेरियन के बाद टांकों की देखभाल से संबंधित ये आर्टिकल आपको पसंद आया होगा. यदि आपको टांकों में दर्द और तकलीफ़ बहुत ज्यादा हो रही है तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके से संबंधित सवाल-जवाब

  1. सिजेरियन डिलीवरी में कितने टांके आते हैं?

    सामान्यतः सिजेरियन डिलीवरी में 11 से 12 टांके आते हैं. लेकिन फिर भी, टांकों की संख्या कुछ बातों पर निर्भर करती है जैसे- आपका बेबी कितना हेल्दी है, ऑपरेशन के लिए डॉक्टर आपके पेट पर कितना बड़ा चीरा लगाते हैं आदि.

  2. सिजेरियन डिलीवरी के बाद महिला का शरीर रिकवर होने में कितना समय लगता है?

    सिजेरियन डिलीवरी के बाद महिला का शरीर रिकवर होने में कम से कम 40 दिन का समय लगता है.

  3. ऑपरेशन के टांके कैसे ठीक होते हैं?

    टांके वाली जगह पर किसी भी कॉस्मेटिक्स का इस्तेमाल न करें वरना इससे खुजली या इन्फेक्शन का ख़तरा हो सकता है. ऑपरेशन के बाद महिला की देखभाल यदि सही तरीके से की जाए तो लगभग 5 से 6 हफ़्तों के अंदर टांके ठीक हो जाते हैं.

  4. ऑपरेशन के कितने दिन बाद नहाना चाहिए?

    सिजेरियन के तुरंत बाद नहाने से बचना चाहिए क्योंकि इस वक़्त टांके ताज़े होते हैं और टांको में बिल्कुल भी पानी नहीं लगना चाहिए. पानी लगने से टांके पक सकते हैं या उनमें इन्फेक्शन हो सकता है. शुरू-शुरू में आप स्पंज बाथ ले सकती हैं.

  5. ऑपरेशन के टांके सुखाने की दवा कौन सी होती है?

    ऑपरेशन के बाद घाव भरने के लिए बीटाडीन का प्रयोग किया जाता है.

  6. सिजेरियन डिलीवरी के बाद पेट में दर्द क्यों होता है?

    डिलीवरी हो जाने के बाद गर्भाशय सिकुड़कर वापस अपने पहले वाले आकार में आने लगता है. ऐसा होने पर महिला को पेट में ऐंठन महसूस होती है और कभी-कभी पेट में दर्द भी होता है. शिशु को स्तनपान कराते वक़्त ये दर्द थोड़ा ज्यादा होने की संभावना रहती है. कभी-कभी डिलीवरी के बाद कब्ज हो जाने की वजह से भी महिला को पेट में दर्द की शिकायत हो सकती है.