सिजेरियन के बाद सावधानी – 12 Precautions after Cesarean

199
सिजेरियन के बाद सावधानी - C-Section Ke Baad Saavdhani

सी-सेक्शन किसी भी महिला के पेट की एक बड़ी सर्जरी होती है और इसके बाद महिला को पूरी तरह से ठीक होने में कुछ हफ़्ते लग जाते हैं. ऐसे में महिला को सिजेरियन के बाद सावधानी का विशेष ख़याल रखने की बहुत ज़रुरत होती है.

नॉर्मल डिलीवरी में महिला की रिकवरी बहुत जल्दी हो जाती है और वह वापस अपने सारे काम ख़ुद कर सकती है लेकिन सिजेरियन के बाद महिला की पूरी रिकवरी होने में समय लगता है इसलिए, कई सारे काम ऐसे होते हैं जिन्हें करने से महिला को मना किया जाता है या फिर बेहद सावधानी के साथ करने की सलाह दी जाती है.

विषय - सूची

सिजेरियन के बाद क्या सावधानी रखनी चाहिए?

यहां सिजेरियन के बाद सावधानी के बारे में बताया गया है जिनका ध्यान हर महिला को सिजेरियन होने के बाद रखना चाहिए. सामान्य जीवन वापस जीने के लिए सावधानी भरे कुछ कदम आसानी से ठीक होने में आपकी मदद कर सकते हैं.

सीढ़ियां न चढ़ें

डॉक्टर सिजेरियन डिलीवरी वाली मां को कम से कम 6 हफ़्तों तक आराम करने की सलाह देते हैं. सीढ़ियां चढ़ने से महिला के टांकों पर जोर पड़ने या टांके खुलने का डर रहता है और इस वजह से महिला को इन्फेक्शन होने की संभावना रहती है.

इसलिए सिजेरियन के बाद महिला को ज्यादा सीढ़ियां नही चढ़नी चाहिए. यदि आप सीढ़ियां चढ़ती भी हैं तो किसी की मदद ज़रूर लें. यदि आपका शरीर सीढ़ियां चढ़ने के लिए अभी कमज़ोर है तो, आपको ज़बरदस्ती बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए.

भारी वजन उठाने से बचें

सिजेरियन डिलीवरी होने के बाद महिला को कोई भी ऐसा भारी सामान नहीं उठाना चाहिए जिससे आगे चलकर महिला को परेशानी उठानी पड़े. ऑपरेशन के बाद डॉक्टर भी आपको यह सलाह देते हैं कि कम से कम 40 दिन तक आपको सिर्फ़ आराम करना चाहिए.

शुरुआत में आपको थोड़ा बहुत घूमना या टहलना चाहिए लेकिन, ज्यादा वजन उठाने से बिल्कुल परहेज करें अन्यथा आपको कमर दर्द या ब्लीडिंग की भी शिकायत हो सकती है.

खानपान पर ध्यान दें

सिजेरियन के बाद सावधानी बरतने में आपको अपने खानपान पर ख़ास ध्यान देने की ज़रुरत होती है. कोई भी ऐसी चीज़ न खाएं जिसका गलत असर आपके टांकों पर पड़े. भोजन में ज्यादा नमक का प्रयोग बिल्कुल न करें क्योंकि इससे टांके पकने या खुलने का डर रहता है.

इस वक़्त महिलाओं को अक्सर कब्ज, गैस और डिहाइड्रेशन की भी शिकायत रहती है, अतः इससे बचने के लिए आपको खूब पानी और फाइबरयुक्त फ़लों व सब्जियों का सेवन करें और तला भूना, ज्यादा नमक-मिर्च, मसाले वाला भोजन, पैक्ड फ़ूड, जंक फ़ूड और स्ट्रीट फ़ूड खाने से बचें. सिजेरियन के बाद ठंडा पानी बिल्कुल न पिएं. हमेंशा उबला हुआ पानी ही पिएं.

देर तक स्नान न करें

सिजेरियन के बाद आपको देर तक स्नान करने से बचना चाहिए क्योंकि, ज्यादा देर तक पानी में रहने से आपको संक्रमण हो सकता है या बुखार भी आ सकता है. स्नान करने के लिए ठंडे पानी का इस्तेमाल बिल्कुल भी न करें.

डिलीवरी के शुरूआती दिनों में आपके लिए स्पंज बाथ लेना सही माना जाता है. यदि नहाना बहुत ज़रूरी है तो गीले कपड़े या वाइप्स का प्रयोग करना बेहतर है.

टांकों का विशेष ध्यान रखें

सिजेरियन डिलीवरी के बाद सबसे ज्यादा सावधानी टांकों का ध्यान रखने में बरतनी पड़ती है. टांकों व घाव के ताजे होने की वजह से इनमें इन्फेक्शन होने का डर रहता है.

समय-समय पर टांकों की ड्रेसिंग करते रहें और ड्रेसिंग के बाद हाथों को अच्छी तरह से धोएं. यदि टांकों पर सूजन या ब्लीडिंग हो तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें. स्ट्रेच मार्क्स के निशान हटाने वाली किसी भी क्रीम का प्रयोग तभी करें जब टांके बिल्कुल साफ़ हो जाएं.

संक्रमण से बचें

सिजेरियन होने के बाद आपको जल्दी से संक्रमण होने की संभावना अधिक रहती है इसलिए खुद को सर्दी, जुखाम या बुखार से बचाकर रखें. खांसी आने पर जोर से न खांसें वरना आपके टांकों पर ज़ोर पड़ सकता है. ऐसी जगह न जाएं जहां पहले से ही कोई बीमार हो या इन्फेक्शन फैला हुआ हो, इससे आपको भी संक्रमण होने का ख़तरा हो सकता है.

शारीरिक संबंध बनाने से बचें

सिजेरियन होने के तुरंत बाद आपको शारीरिक संबंध बनाने से बचना चाहिए, क्योंकि इससे आपके टांकों पर ज़ोर पड़ता है और आपको गर्भाशय संबंधी समस्या भी हो सकती है.

डिलीवरी के तुरंत बाद फिज़िकल रिलेशनशिप बनाने में बिल्कुल भी जल्दबाजी न करें. अपने पार्टनर से इस बारे में बात करके उन्हें इस बारे में समझाएं और डिलीवरी के बाद सेक्स करने से पहले कम से कम दो महीने तक का गैप ज़रूर लें.

डिलीवरी के बाद शारीरिक संबंध बनाने के लिए ज़रूरी है कि महिला की गर्भाशय ग्रीवा पूरी तरह से बंद हो जाए. अतः डिलीवरी होने के दो माह बाद संबंध बनाने से पहले सावधानी के तौर पर एक बार महिला को डॉक्टर से संपर्क करके अपने टांकों की जांच ज़रूर करवा लेनी चाहिए.

पेट की मालिश न करवाएं और तुरंत ही एक्सरसाइज़ शुरू न करें

अक्सर डिलीवरी के बाद महिला के शरीर में बहुत कमज़ोरी आ जाती है अतः इसे दूर करने के लिए महिला की मालिश करवाई जाती है लेकिन, सिजेरियन डिलीवरी के तुरंत बाद ऐसा करना आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है क्योंकि ऐसा करने से आपके टांके खुल सकते हैं इसलिए सिजेरियन के बाद कम से कम 40 दिन तक पेट की मालिश न करवाएं.

सिजेरियन के बाद अक्सर महिलाओं का या तो वजन बढ़ जाता है या फिर पेट बहुत अधिक बाहर को निकल जाता है. इसे कम करने के लिए कुछ महिलाएं एक्सरसाइज़ करने के बारे में सोचती हैं लेकिन इस बात की सावधानी रखें कि सिजेरियन होने के बाद कम से कम 40 दिन तक कोई एक्सरसाइज़ न करें क्योंकि, इससे आपके घाव पर जोर पड़ सकता है और जब भी आप कोई एक्सरसाइज़ शुरू करती हैं तो एक बार अपने डॉक्टर से परामर्श ज़रूर लें कि आपके लिए कौन सी एक्सरसाइज़ करना सही रहेगा.

सिजेरियन के तुरंत बाद बेल्ट न बांधें

डिलीवरी होने के बाद महिलाएं अपने वजन और पेट को लेकर चिंतित रहती हैं. वजन नियंत्रित रखने और बाहर निकले हुए पेट को अंदर करने के लिए महिलाएं पेट को सूती कपड़े या फिर बेल्ट से बांधकर रखती हैं.

नॉर्मल डिलीवरी में तो आप पेट अंदर करने के लिए डिलीवरी होने के एक हफ़्ते बाद से यह उपाय कर सकती हैं लेकिन सिजेरियन डिलीवरी के तुरंत बाद आप न ही पेट पर कपड़ा बांध सकती हैं और न ही पेट कम करने वाली बेल्ट का प्रयोग कर सकती हैं.

पेट को अंदर करने का यह उपाय तभी आजमाएं जब आपके टांकें पूरी तरह से ठीक हो जाएं और उनमें बिल्कुल भी दर्द न हो रहा हो.

शरीर पर हवा न लगने दें

जी हां, यह बहुत ही ज़रूरी सावधानी है जिसका आपको विशेष ध्यान रखना चाहिए. डिलीवरी के बाद महिला के शरीर को कमज़ोरी से बचाने के लिए यह आवश्यक है कि महिला के शरीर पर हवा न लगने पाए.

सिजेरियन डिलीवरी के बाद महिला को ठंड अधिक लगती है साथ ही कुछ महिलाओं को सिर दर्द, पेट दर्द व कमर दर्द की भी शिकायत रहती है. अतः इन सभी परेशानियों से बचने के लिए महिला को अपने पूरे शरीर को कवर करके रखना चाहिए.

सिर को भी ढककर रखें और पंखे, कूलर या ए.सी की हवा में बिल्कुल न रहें. क्योंकि हवा लगने से आपके शरीर में और भी ज्यादा कमजोरी आती है और आपको बुखार भी आ सकता है.

अपनी मर्ज़ी से कोई भी पेनकिलर न लें

सिजेरियन डिलीवरी के बाद जब एनस्थीसिया का असर कम हो जाता है तो महिला के घाव में दर्द होना शुरू हो जाता हो जो एक या दो हफ़्तों तक रहता है. इस दर्द से बचने के लिए आप अपनी मर्ज़ी से कोई भी पेनकिलर न लें.

आपको वही दवा लेनी है जो डॉक्टर ने आपको प्रिस्क्राइब की है. अपने आप से कोई भी दवा लेना आपके शरीर को और अधिक नुक्सान पहुंचा सकता है.

तनाव से दूर रहें

सिजेरियन डिलीवरी किसी भी महिला कल लिए थोड़ा मुश्किल भरा दौर हो सकता है और कुछ महिलाएं इसके बाद बहुत अधिक तनाव ले लेती हैं. लेकिन ध्यान रहे कि किसी भी तरह का मानसिक तनाव आपकी हेल्थ पर बुरा असर डाल सकता है.

अतः डिलीवरी के बाद आपको हमेंशा खुश रहने की कोशिश करनी चाहिए. इस समय को अपने शिशु की देखभाल और उसके साथ हंसने, खेलने में बिताएं और मां बनने की ख़ुशी को एन्जॉय करें.

उम्मीद करते हैं कि सिजेरियन के बाद सावधानी के बारे में दी गई ये जानकारी आपको पसंद आई होंगी और आप भी इन सभी सावधानियों का ज़रूर ध्यान रखेंगे.

ये भी पढ़ें:

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

  1. क्या सिजेरियन के बाद नॉर्मल डिलीवरी संभव है?

    जी हां, सिजेरियन के बाद नॉर्मल डिलीवरी बिल्कुल संभव है लेकिन यह मरीज की शारीरिक स्थिति पर निर्भर करती है.

  2. क्या सिजेरियन के बाद स्तनपान करा सकते हैं?

    जी हां, सिजेरियन के बाद आप स्तनपान करा सकती हैं लेकिन इस दौरान अपने टांकों का भी ध्यान रखें, शिशु को दूध पिलाते वक़्त आपके टांकों पर ज़ोर न पड़ने दें. इसके लिए आप तकिये का सहारा ले सकती हैं.

  3. ऑपरेशन के कितने दिन बाद नहाना चाहिए?

    ऑपरेशन के तुरंत बाद नहाने से बचें. शुरूआती दिनों में आप स्पंज बाथ ले सकती हैं या फिर गीले कपड़े से साफ़ कर सकती हैं.

  4. नॉर्मल डिलीवरी के कितने दिन बाद संबंध बना सकते हैं?

    नॉर्मल डिलीवरी के कम से कम एक से डेढ़ माह बाद आप शारीरिक संबंध बना सकते हैं.

  5. ऑपरेशन के कितने दिन बाद संबंध बनाने चाहिए?

    ऑपरेशन के बाद शारीरिक संबंध कम से कम दो माह बाद ही बना सकते हैं क्योंकि तब तक महिला के टांके भर जाते हैं. जब तक महिला के टांके पूरी तरह से न भर जाएं तब तक संबंध बनाने से बचें.

  6. सी-सेक्शन के बाद पहली बार मासिक धर्म कब आता है?

    मासिक धर्म का आना इस बात पर निर्भर करता है कि आप कब तक बच्चे को स्तनपान कराती हैं. यदि आप अपने शिशु को स्तनपान कराती रहती हैं तो, करीब छै महीने तक मासिक धर्म आने की संभावना कम ही होती है लेकिन यदि, आप शिशु को स्तनपान नहीं कराती हैं तो उस स्थिति में सी-सेक्शन के 6 से 8 हफ़्ते बाद आपको मासिक धर्म आने शुरू हो सकते हैं.