आयुष काढ़ा बनाने की विधि – ayush kadha banane ki vidhi

13
आयुष काढ़ा बनाने की विधि - ayush kadha banane ki vidhi

आयुष मंत्रालय का काढ़ा क्या है?

वर्ष 2020 में कोविड–19 वैश्विक महामारी को देखते हुए लोगों में प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने के लिए आयुष विभाग ने एक हर्बल काढ़ा तैयार किया. भारत सरकार की तरफ़ से आयुष मंत्रालय ने सभी देशवासियों से आयुष मंत्रालय द्वारा सुझाए गये आयुष काढ़ा का सेवन करने की अपील की थी. आज इस पोस्ट में हम आयुष काढ़ा बनाने की विधि जानेंगे.

आयुष मंत्रालय ने कहा है कि स्वस्थ रहने के लिए एवं अपनी इम्यूनिटी को मज़बूत करने के लिए दिन में एक से दो बार हर्बल चाय का सेवन करना फायदेमंद रहेगा. इस काढ़े को बनाने में तुलसी के पत्ते, दालचीनी, काली मिर्च, मुनक्का, अदरक आदि का इस्तेमाल किया जाता है.

किसी भी मौसमी बीमारी या संक्रमण में एलोपेथिक दवा लेने से बेहतर है कि आप घरेलू उपचार को प्राथमिकता दें. घर पर ही रहते हुए आयुष मंत्रालय का काढ़ा का सेवन करें और किसी भी तरह के वायरस या संक्रमण से अपनी रक्षा करने के लिए अपनी इम्यूनिटी को मज़बूत बनाने पर ज़ोर दें.

आयुष काढ़ा बनाने की विधि क्या है?

  • सबसे पहले एक भगोने में दो कप पानी ले लीजिए.
  • इसमें अदरक का पाउडर(सुंठी) या एक इंच अदरक का टुकड़ा डाल दीजिए.
  • 8 से 10 तुलसी के पत्ते,
  • दो इंच दालचीनी का टुकड़ा,
  • 7-8 काली मिर्च,
  • चार मुनक्का,
  • दो छोटी इलायची,
  • 4 से 5 लौंग,
  • एक तेज पत्ता डाल दीजिए.

अब इन सभी सामग्रियों को गैस में तब तक उबालिए जब तक कि इसकी मात्रा आधी न रह जाए. जब ये आधी मात्रा में रह जाए तब इसमें थोड़ा सा गुड़ या नींबू का रस डाल लीजिए. जब गुड़ अच्छी तरह से काढ़े में घुल जाए तब गैस को बंद कर दीजिए. अब आप इस काढ़े को छानकर इसका सेवन कर सकते हैं.

आयुष काढ़ा बनाने से सम्बंधित सवाल-जवाब

आयुष काढ़ा का सेवन दिन में कितनी बार करना चाहिए?

आयुष काढ़ा का सेवन आप दिन में एक से दो बार कर सकते हैं.